बहु की शादी – bedtime stories | moral stories | hindi kahani | story time |

मधु की बहू निशा की शादी उसके बेटे वैभव से होती है दोनों की जोड़ी बड़ी ही शानदार थी लेकिन शादी के 2 साल बाद ही वैभव का स्वर्गवास हो जाता है निशा की मां निशा के साथ से कहती है अब तो रहा नहीं अच्छा होगा कि आप हम हमारी बेटी को यहां से ले जाए मधु निशा की तरह दिखती है लेकिन वैभव के जाने के बाद मैं मानती हूं निशा की मां निशा के पास उसके कमरे में जाती है विश्वास कह रही है कि तू अपना सामान पैक कर लिया खड़े होते हैं वह निशा का सामान देखकर दुखी हो जाते हैं अरूप बेटा अब इन लोगों से क्या बात करनी है निशा को गले लगाती है निशा सास के पैर छूकर कहती है माझी 4 आपके बिना अच्छा नहीं लगेगा हमारे लिए आपको देखकर भाई को याद कर लेते पी है पापा मां नहीं जाना चाहती है.

मैंने आपसे यह कहा था कि निशा अगर जाने की इच्छा रखे तभी हम उसे भेजेंगे अच्छा हो कि अब आप लोग चले जाए निशा अपनी मां की तरह आश्चर्य भरी नजरों से देखती है उल्टी पड़ जाती है घर में बेटी की तरह रहती मां बाप का ख्याल रखती घर का काम करती और खाली समय में अपने कमरे में चुपचाप बैठ जाती अरे क्यों भाई वह तो तुम और पिंकी दोनों मिलकर कर लेना मैं कल ही कॉलेज का फॉर्म लेकर आऊंगा कहने पर निशा आगे की पढ़ाई फिर से शुरू कर देती है वह खूब पड़ती है और एक अच्छी सी नौकरी में भी लग जाती है 1 दिन निशा के घर की घंटी बजती है एक सुंदर सा लड़का अपने मां बाप के साथ खड़ा होता है वह सब अंदर आकर बैठ जाते हैं निशा के साथ ससुर उन लोगों को अंदर बिठाते हैं लड़के के पिता बोलते हैं हम आपके बेटे निशा की शादी के लिए रिश्ता लेकर आए हैं यह तो बड़ी खुशी की बात है क्या करते हो बेटा/

मैं शादीशुदा हूं पूरा ऑफिस के बाद जानता है सर हमें पता है बेटी अभिषेक ने हमें सब बता दिया था हमें शादी से कोई दिक्कत नहीं है लेकिन मुझे शादी नहीं करना चाहती अरे नहीं देती अब हमें भी तो अपना कर्तव्य पूरा करने दे एक बेटी को पढ़ा लिखा कर उसे अपने पैरों पर खड़ा कर मां-बाप से अच्छे घर की बहू के रूप में देखना चाहते हैं वैसे तो तू हमारी बेटी है और बेटे की शादी करना हर पिता का सपना होता है हमें यह लड़का पसंद है तेरी उम्र ही क्या है बेटा तुझे भी तो जीने का हक है निशा सर झुका लेती है और शादी के लिए हां कर दी थी है

Posts by category

Dayanand Kumar Deepak

Dayanand Kumar Deepak is the MD (Managing Director) and CEO (Chief Executive Officer) of biharisir.com and Whole Time Director, Independent Director, Shareholder/Investor Grievance Committee, Remuneration Committee.

Leave a Reply